Personalized
Horoscope

गुरु सिंह राशि में अस्त (अगस्त 12 - सितम्बर 10, 2015) - जानें इसके प्रभाव!

गुरु ग्रह अगस्त 12, 2015 को सिंह राशि में अस्त होगा। गुरु का अस्त होना हमारे जीवन को किसी न किसी तरीके से प्रभावित करेगा। पर क्या होंगे यह प्रभाव? जानिए अपनी राशियों पर होने वाले इन प्रभावों के बारे में ज्योतिषी “ आचार्य रमन ” जी के साथ।

Jaanein guru ke singh rashi me asta hone par kya honge apki rashi par prabhav.

अगस्त 12, 2015 को ग्रह गुरु सिंह राशि में अस्त हो जाएंगे। 10 सितम्बर को पुनः इनका उदय होगा। गुरु सभी शुभ कार्यों हेतु जाने जाते हैं, इनका नीच हो जाना अथवा अस्त हो जाना अच्छा नहीं माना जाता है। जब गुरु अस्त होते हैं तो सभी शुभ कार्यों को वर्जित कर दिया जाता है जैसे कुओं की खुदाई, नींव रखना, गृह प्रवेश, मुंडन, वाहन खरीदना, नया काम या व्यापार शुरू करना आदि।

अपनी लग्न राशि ज्ञात करने हेतु क्लिक करें: लग्न राशि कैलकुलेटर

Click here to read in English…

आइये देखते हैं आपकी राशि के ऊपर इसके क्या परिणाम हो सकते हैं :

मेष

Ekta Kapoor

धर्म अध्यात्म ऐसी चीज़ें हैं जिनको किसी भी हाल में नहीं त्यागना चाहिए। हमारा धर्म ही हमारा अस्तित्व है। जिस दिन धर्म का नाश हो जाएगा उस दिन हमारा भी अंत ही समझिए। रोमन सभ्यता इसका जीता जागता उदाहरण है। ग्रह अस्त होते रहेंगे उदय होते रहेंगे, लेकिन अगर धर्म को हमने अपना के रखा हुआ है तो सब ठीक है। बरसात में आग जलाने का कोई मतलब नहीं होता अतः इस समय में कोई नयी मन्त्र दीक्षा, साधना वगेरह शुरू करने का कोई मतलब नहीं है। अपने प्रेम सम्बन्ध को लेकर चिंतिति मत रहिये, सब ठीक हो जाएगा। टाइगर श्रॉफ हों, अभिषेक बच्चन, डिंपल कपाड़िया, या आप - अपने संस्कार को सदा ही सबसे ऊपर रखना चाहिए।

अपनी राशि के बारे में अधिक जानने के लिए क्लिक करें: मेष राशि

वृषभ

Kitu Gidwani

बड़ों का सम्मान करना हमारी धरोहर है, विदेशों में तो कोई भी किसी को नहीं पूछता - सिर्फ धन की बोली को समझा जाता है लेकिन हमारे यहाँ दिल से जिया जाता है धन से नहीं, इसलिये बड़ी से बड़ी आपदा में भी लोग एक दुसरे के लिए खड़े हो जाते हैं और बिना सरकारी मदद के ही काफी कुछ कर लेते हैं। आपको भी अपने अंदर यहि जज़्बा बनाये रखना है और सभी का पूरा सम्मान करना है चाहे वह धन में आपसे कम ही क्यों न हो। योजनाएँ तो आगे पीछे होती रहती हैं, बस इतना ही करना बहुत रहेगा। 1 महीने की ही बात है - बाद में काम हो सकते हैं। नया वाहन मत लीजियेगा।

अपनी राशि के बारे में अधिक जानने के लिए क्लिक करें: वृषभ राशि

मिथुन

Kirti Kharbanda

समय बहुत अच्छा बना हुआ है। आपको अधिक कुछ नहीं करना है, लोग तो आपके लिए सही ऊर्जा लेकर ही बैठे हैं अपने मन में। बस आपको भी अपने अंदर नकारात्मकता को नहीं आने देना है - बहुत कष्ट होता है उन लोगों को जो आपका भला चाहते हैं मगर आपसे ही उनको कटु वाक्य सुनने को मिलते हैं। सोचिये आपके साथ कोई ऐसा व्यवहार करेगा तो आपको कैसा लगेगा? सभी को बुरा लगता है। तो दूसरों के साथ वैसा मत कीजिये जैसा आप खुद के लिए भी पसंद नहीं करेंगे। कोई नया कोर्स या काम शुरू मत कीजिएगा और किसी से ईमेल, पत्र या फ़ोन पर वार्ता करें तो ध्यान से, कहीं कोई महत्त्वपूर्ण और गोपनीय बात आपके मुह से अनायास ही निकल न जाए।

अपनी राशि के बारे में अधिक जानने के लिए क्लिक करें: मिथुन राशि

कर्क

Arpita khan

हमेशा याद रखिये, पैसा बहुत बड़ी चीज़ है मगर नींद नहीं खरीद सकता - मन का चैन नहीं खरीद सकता, गहरी नींद नहीं खरीद सकता। तो जब ये सबसे ज़रूरी बातें ही नहीं उस से आने वाली तो क्यों उसके पीछे पागल हुआ जाए? घर में इतने लोग रहते हैं - किसी भी बुज़ुर्ग से पूछिये तो वह यही बताएँगे कि सबसे बड़ी दौलत है मन का चैन और कुछ नहीं। तो कुछ शरीर, मन और आत्मा को आराम दीजिये। महीने भर में कोई आफ़त नहीं आएगी। सब ठीक हो जाएगा, ईश्वर के अधीन सब समर्पित कर दीजिये और फिर देखिये कैसे सब काम होने लगते हैं।

अपनी राशि के बारे में अधिक जानने के लिए क्लिक करें: कर्क राशि

सिंह

Farida Jalal

ब्रह्मा से भी गलती हुई थी, हम तो इंसान हैं। लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि हम जानबूझकर ग़लतियाँ करें और भगवान पर लांछन लगा दें। वह तो सब स्वीकार कर लेंगे --लेकिन बाद में क्या होगा? विष्णु जी ने , नारद अहंकारी हुआ तो उसको बन्दर बना दिया, कृष्णा जी ने कुंती का श्राप स्वीकार कर मृत्यु का वरण करा। हम क्या करें, जब शुभ ग्रह लग्न में आके अस्त हो जाए, बस प्रभु शरणम ही उपाय है। अहंकार की तिलांजलि का अभिषेक करना है, उन्माद को हटा देना है, भक्ति भाव में कमी न आने पाये बस यही ख़याल रखना है।

अपनी राशि के बारे में अधिक जानने के लिए क्लिक करें: सिंह राशि

कन्या

Lt. Farooq Sheikh

हमेशा अपने आप में ही खोये रहना या अतीत को लेकर वर्तमान को धूमिल करना तो कोई समझदारी नहीं है। ऋणात्मकता को त्यागना और आने वाले समय के लिए स्वयं को तैयार करना ही समझदारी है, जो बीत गया सो बीत गया। अब नहीं आने वाला। हाँ यह ज़रूर है कि कुछ भी कीजिये नैतिकता की सीमाओं के अंदर ही कीजिये, अन्यथा भुगतना आपको ही है। ईश चिंतन ज़रूर करें मगर स्वार्थी होकर नहीं बल्कि बस मन को अच्छा लगने के लिए। स्वार्थ से तो पूरी दुनिया भी भरी पड़ी है।

अपनी राशि के बारे में अधिक जानने के लिए क्लिक करें: कन्या राशि

तुला

Kamna Jethmalani

मित्र हमारी सबसे बड़ी पूँजी होते हैं, हर शख्स ये जानता है - फिर भी कभी-कभी दोस्तों के साथ अनबन हो जाती है। ये तो होना भी चाहिए - तभी तो दोस्ती में नयी यादें और अनुभव आते जाते हैं। वरना घिसीपिटी ज़िन्दगी का मतलब ही क्या हुआ? वह तो सभी जी ही रहे हैं। और आपके सम्बन्ध भी अच्छे ही बने हुए हैं मगर कुछ अंदेशा है कि शायद बिगड़ जाएँ ,तो दोस्त से झगड़े के बाद जब फिर से दोस्ती होती है तो और भी मज़ा आता है। सोशल साइट्स पर थोड़ा ध्यान से पोस्ट्स या ट्वीट कीजियेगा, कहीं मुश्किल में न फँस जाएँ।

अपनी राशि के बारे में अधिक जानने के लिए क्लिक करें: तुला राशि

वृश्चिक

Kanika

सब अच्छा ही चल रहा है, ग्रह से कोई बहुत फर्क नहीं पड़ेगा। बस आपके काम थोड़ा अधिक समय लेंगे लेकिन पूरे हो जाएंगे। हाँ आपका व्यवहार ज़रूर एक समस्या बन सकता है। आपको इस तरफ तवज्जो पूरी देनी है कि किसी से भी अभद्रता न करी जाए। किसी को नीचा दिखाने या खुद को दुसरे से बेहतर जताने की कोशिश न करें। आपमें ऊर्जा तो बहुत भरी हुई है मगर कभी-कभी एक छोटी सी गलती बना नासूर बन जाती है।

अपनी राशि के बारे में अधिक जानने के लिए क्लिक करें: वृश्चिक राशि

धनु

Neha Bhasin

धर्म संस्कार रीती ही भारतवर्ष की सदियों से पहचान रही है, आपके लिए भी बृहस्पति बहुत अच्छे स्थान में गोचर कर रहे हैं। लेकिन लगभग 1 माह के लिए जिसमें गुरु अस्त हो रहे हैं उसमें आपको यह ध्यान रखना है कि आप अपने मार्ग से भटक न जाएँ। लम्बी यात्रा को हो सके तो टाल दीजिये। धार्मिक स्थल पर जाना कोई मतलब का नहीं रहने वाला, कोई नया मन्त्र, साधना, आध्यात्मिक गुरु, कोई नया कोर्स वगेरह अभी शुरू मत कीजिये।

अपनी राशि के बारे में अधिक जानने के लिए क्लिक करें: धनु राशि

मकर

Manasi salvi

यही वह समय है जब आपको स्वयं पर सर्वाधिक नियंत्रण रखना होगा, जब गुरु का बल अस्त होगा तो इस भाव से जुड़ी हुई तामसिकता अधिक प्रभावी होगी और यही लोगों के पतन के कारण बनती है। रावण इसका सबसे अच्छा उदाहरण है। कुछ कार्यों में अचानक विघ्न आ सकता है और आपको मानहानि से भी दो चार होना पड़ सकता है। और आपके शत्रुओं को भी आप पर ऊँगली उठाने का खूब मौका मिलेगा। लेकिन आपको विचिलित नहीं होना है - सब ठीक हो जाएगा।

अपनी राशि के बारे में अधिक जानने के लिए क्लिक करें: मकर राशि

कुम्भ

Chinamyi Sripada

गुरु आपके लिए बहुत लाभ के स्थान पर चल रहे हैं, आपको आनंद भी आ रहा है लेकिन ये जो 1 माह है इसमें आपको थोड़ा नियम संयम आहार का व्रत ले लेना चाहिए। जीवन-साथी से अनबन न हो ऐसी कोशिश रखनी चाहिए, व्यापारिक संबंधों में पूरी सफाई रहनी चाहिए, और आपको अपनी तरफ से सब कुछ सामने रखते रहना चाहिए जिससे कोई वैमनस्य न फैल सके।

अपनी राशि के बारे में अधिक जानने के लिए क्लिक करें: कुम्भ राशि

मीन

Arjit Singh

स्वास्थ्य को लेकर सजग रहना आवशयक है, लग्नेश ही अस्त हो जाएगा तो थोड़ी दिक्कत तो होगी - कामों में अड़चनें आएँगी - अधिक परिश्रम करना पड़ेगा। दुसरे आपसे आगे निकल सकते हैं। आपमें नैराश्य की भावना घर कर सकती है। आपको ध्यान रखना है कि आपमें ईर्ष्या द्वेष की भावना न आने पाये, उस से कोई हल नहीं निकलता - गीता में इन सबको मनुष्य का परम शत्रु बताया गया है। तो चिंता मत कजिये, थोड़ी बहुत ऊँच-नीच तो जीवन में लगी ही रहती है।

अपनी राशि के बारे में अधिक जानने के लिए क्लिक करें: मीन राशि

आचार्य रमन

2017 गोचर

मंगल का मकर में गोचर मंगल वृश्चिक में वक्री मंगल का वृश्चिक में गोचर मंगल का तुला राशि में गोचर मंगल का कन्या में गोचर मंगल का सिंह राशि में गोचर मंगल अस्त मेष राशि में मंगल का मेष में गोचर मंगल का मीन में गोचर मंगल का मिथुन में गोचर मंगल का वृषभ में गोचर मंगल का वृषभ में गोचर मंगल का गोचर कुम्भ राशि में शनि वृश्चिक में अस्त शनि वक्री वृश्चिक में वृश्चिक राशि में शनि उदय सूर्य का तुला राशि में गोचर सूर्य का मीन में गोचर सूर्य का कुम्भ में गोचर सूर्य का मकर में गोचर सूर्य का धनु राशि में गोचर सूर्य का वृश्चिक राशि में गोचर सूर्य का कन्या राशि में गोचर सूर्य का सिंह राशि में गोचर सूर्य का कर्क में गोचर सूर्य का मिथुन में गोचर सूर्य का वृषभ में गोचर सूर्य का मेष में गोचर सूर्य का वृषभ में गोचर सूर्य का मिथुन में गोचर
धनु राशि में शुक्र का गोचर शुक्र का वृश्चिक में गोचर शुक्र का कन्या में गोचर शुक्र कर्क में मार्गी शुक्र का मीन में गोचर शुक्र का कुम्भ में गोचर शुक्र का मकर में गोचर शुक्र मेष में अस्त शुक्र का वृश्चिक में गोचर शुक्र का तुला में गोचर मंगल का कर्क में गोचर अस्त शुक्र का कर्क में गोचर शुक्र सिंह राशि में वक्री शुक्र का वृषभ में गोचर शुक्र का मेष में गोचर शुक्र का सिंह में गोचर शुक्र का मिथुन में गोचर शुक्र का कर्क में गोचर शुक्र का मिथुन में गोचर शुक्र का वृषभ में गोचर शुक्र का वृश्चिक में गोचर वृश्चिक राशि में शुक्र उदय गुरु कन्या राशि में वक्री गुरु का सिंह में गोचर गुरु सिंह राशि में अस्त गुरु कर्क राशि में मार्गी कर्क राशि में बृहस्पति वक्री गुरु कर्क राशि में मार्गी शनि धनु राशि में वक्री

AstroSage on MobileAll Mobile Apps

AstroSage TVSubscribe

Buy Gemstones

Best quality gemstones with assurance of AstroSage.com

Buy Yantras

Take advantage of Yantra with assurance of AstroSage.com

Buy Navagrah Yantras

Yantra to pacify planets and have a happy life .. get from AstroSage.com

Buy Rudraksh

Best quality Rudraksh with assurance of AstroSage.com

Reports

FREE Matrimony - Shaadi