Personalized
Horoscope

बुध मकर में वक्री - जनवरी 5, 2016

5 जनवरी 2016 को बुध मकर राशि में वक्री हो रहा है। तो क्या आप तैयार हैं इस वक्री का लाभ उठाने के लिए, नहीं हैं तो हो जाइए, क्योंकि इसमें हम आपकी पूरी मदद करने वाले हैं। तो आइए जानते हैं कि इस वक्री का तमाम राशियों पर क्या पड़ेगा।

जानें बुध का मकर राशि में वक्री 2015 आपके लिए क्या लेकर आया है।

Click here to read in English...

विशेष : यह राशिफल आपकी लग्न राशि के आधार पर है। अपनी लग्न राशि जानने के लिए यहाँ क्लिक करें: अपनी लग्न राशि ज्ञात कीजिए

बुध 26 दिसंबर 2015 से मकर राशि में विराजमान है। इस वक्री के बाद बुध 14 जनवरी 2016 को धनु में प्रवेश करेगा और यह 26 जनवरी 2016 को मार्गी होगा। संभवतः जब भी कोई ग्रह वक्री होता है तो इसका प्रभाव प्रतिकूल पड़ता है। हालाँकि सभी के लिए ऐसा नहीं होता है। किसी के लिए शुभ होता है तो किसी के लिए अशुभ होता है। तो आइए देखते हैं क्या होता सभी राशियों पर इसका प्रभाव।

मेष

आपके लिए बुध आपके दशम भाव में वक्री हो रहा है, अतः इसके प्रभाव से पिता और उच्च अधिकारियों से सम्बन्ध बिगड़ने का ख़तरा बनेगा। वाणी और अपने विचारों पर आपको नियंत्रण रखना होगा और अपने से उच्च अधिकारियों से सोच-समझकर वार्तालाप करना होगा। पारिवारिक सुख में भी कमी का अनुभव होगा और अपने क़रीबियों से वैचारिक मतभेद रहेगा। मान-प्रतिष्ठा के प्रति भी थोड़ी सावधानी बरतें और किसी से कोई वादा करते समय यह ध्यान रखें कि क्या आप उसे पूरा कर पाएंगे।

मेष राशिफल 2016 जानने के लिए क्लिक करें: मेष राशिफल 2016

वृषभ

आपके लिए बुध आपके नवम भाव में स्थित है जहाँ यह अब वक्री हो रहा है। बुध के वक्री होने से आपका मन धर्म से विरक्त हो सकता है और कुछ नास्तिकता हावी हो सकती है। साथ ही भाग्य कुछ प्रतिकूल रहेगा। अतः आपको किसी भी ऐसे कार्य में हाथ डालने से बचना चाहिए जहाँ सिर्फ़ भाग्य का ही सहारा हो। हर काम में आपको कुछ अधिक प्रयास, संघर्ष और विलम्ब से सफलता मिलने की उम्मीद रहेगी। आय में भी कमी संभव है और शारीरिक व्याधि में धन ख़र्च होने की संभावना बनेगी।

वृषभ राशिफल 2016 जानने के लिए क्लिक करें: वृषभ राशिफल 2016

मिथुन

मिथुन राशि वालों के लिए इस समय बुध अष्टम भाव में स्थित है और यह अब यहाँ वक्री हो रहा है, अतः इसके प्रभाव से आपके शारीरिक सुख में वृद्धि होगी, लेकिन इससे आपके विचारों में शून्यता भी आएगी जिसके परिणाम स्वरूप आपको निर्णय लेने में अत्यधिक कठिनाई महसूस हो सकती है, परन्तु स्वास्थ्य के लिए यह समय बहुत अनुकूल रहेगा। किसी लम्बी स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या से निजात मिलेगा, लेकिन वाणी कुछ ठीक नहीं रहने वाली है जिसके परिणाम स्वरूप अपनों से कुछ मतभेद हो सकता है।

मिथुन राशिफल 2016 जानने के लिए क्लिक करें: मिथुन राशिफल 2016

कर्क

आपके लिए बुध आपके सप्तम भाव में वक्री हो रहा है, यहाँ बुध का वक्री होना आपके कार्य व्यापार के लिए बिलकुल भी ठीक नहीं है, साझेदारों से विवाद संभव है या साझेदारी की कामों में हानि की सम्भवना बनेगी। इसके आलावा आपके सोचने-समझने की शक्ति भी प्रभावित होगी। मन में नकारात्मक विचार आयेंगे। रात्रि के समय अनिद्रा का अनुभव कर सकते हैं। पारिवारिक सुख में भी कमी का अनुभव होगा और इसका कारण होगा आपके जीवन साथी से कुछ वैचारिक मतभेद। प्यार करने वालों के लिए भी प्रेम संबंधों में तनाव संभावित है।

कर्क राशिफल 2016 जानने के लिए क्लिक करें: कर्क राशिफल 2016

सिंह

आपके लिए द्वितीय और एकादश भाव का स्वामी होकर बुध छठे भाव में था जिससे आपके लिए धन सम्बन्धी और स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्या बनी हुई थी, परन्तु अब इसी भाव में बुध के वक्री होने से कर्ज़ तथा स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याएँ समाप्त होंगी। साथ ही शत्रुओं से भी छुटकारा मिलेगा। यदि कोई विवाद लम्बे समय से चल रहा है तो वह अब समाप्त होगा, परन्तु कुछ व्यर्थ की यात्रायें भी सम्भव हैं। कर्ज़ से मुक्ति तो मिलेगी, परन्तु पुनः नए कर्ज़ की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है।

सिंह राशिफल 2016 जानने के लिए क्लिक करें: सिंह राशिफल 2016

कन्या

कन्या राशि वालों के लिए बुध लग्नेश और दशमेश होने के कारण अत्यंत ही योगकर्ता और परिणामदाता ग्रह है और अत्यंत ही शुभ है। यहाँ यह पंचम भाव में था जिसके कारण बहुत शुभता बनी हुई थी, लेकिन यह अब पंचम भाव में ही वक्री हो रहा है। अतः यह परिवर्तन कन्या राशि के जातकों के लिए बिल्कुल ही अच्छा नहीं है, विशेषकर प्रेमियों के लिए कदापि अनुकूल नहीं है। जो लोग शिक्षा-प्रतियोगिता की तैयारी कर रहे हैं, उन्हें अधिक परिश्रम करने की आवश्यकता पड़ेगी, क्योंकि राह कुछ कठिन होगी, संतान पक्ष से भी कुछ तनाव संभव है।

कन्या राशिफल 2016 जानने के लिए क्लिक करें: कन्या राशिफल 2016

तुला

तुला राशि के जातकों के लिए बुध चतुर्थ भाव में वक्री हो रहा है, अतः अनावश्यक के ख़र्च उत्पन्न हो सकते हैं। आपके घर के सामानों की हानि इस दौरान संभव है। बुध के वक्री होने से आप पारिवारिक सुख में भी कुछ कमी महसूस करेंगे। जीवनसाथी से कुछ वैचारिक मतभेद संभावित है। माता-पिता के स्वास्थ्य से सम्बंधित कुछ परेशानियाँ भी सर उठा सकती हैं। परिवार में तथा बाहर दोनों ही जगहों पर अपने से बड़े लोगों से वैचारिक मतभेद उत्पन्न हो सकता है, अतः दैनिक जीवन में वार्तालाप और कार्य-व्यवहार करते समय सावधानी बरतें।

तुला राशिफल 2016 जानने के लिए क्लिक करें: तुला राशिफल 2016

वृश्चिक

आपके लिए बुध तीसरे भाव में वक्री हो रहा है। यहाँ बुध के वक्री होने से आपके अपने भाई-बहनों से वैचारिक मतभेद उत्पन्न होने की संभावना बन रही है। साथ ही किसी क़रीबी मित्र से विवाद या दूरी सम्भव है। बुध के वक्री रहने के दौरान भाग्य पक्ष भी कुछ कमज़ोर रहेगा, अतः आर्थिक जोखिम ना उठायें। यात्रायें फलदायी ना होकर कुछ कष्टकारी होंगी। आय में भी कुछ कमी होगी और इस समय आलस्य भी कुछ हावी रहेगा। हाँ, यदि लम्बे समय से कोई बीमारी चल रही है तो इस समय उसमे कुछ सुधार आयेगा।

वृश्चिक राशिफल 2016 जानने के लिए क्लिक करें: वृश्चिक राशिफल 2016

धनु

धनु राशि के जातकों के लिए यह परिवर्तन द्वितीय भाव में हो रहा है, अतः इसके प्रभाव से आपको निर्णय लेने में अत्यंत ही कठिनाई महसूस होगी, आपकी वाणी दूषित हो सकती है तथा स्वभाव में चिड़चिड़ापन बढ़ेगा और अनावश्यक क्रोध करेंगे। कुछ धन हानि भी संभव है और आय में अचानक कमी होने की संभावना भी बहुत प्रबल है। स्वास्थ्य से सम्बंधित कुछ परेशानियाँ भी उत्पन्न हो सकती हैं विशेष कर एलर्जी सम्बन्धी। वैसे एक बात आपको स्पष्ट कर दूँ कि यह प्रभाव अधिक तब होगा जब वर्तमान में आप बुध की दशा से गुज़र रहे हों।

धनु राशिफल 2016 जानने के लिए क्लिक करें: धनु राशिफल 2016

मकर

मकर राशि वालों के लिए षष्टेश और भाग्येश बुध जो अब तक लग्न में बैठकर अत्यंत ही शुभ प्रभाव दिखा रहा था, वही बुध अब बहुत हद तक नकारात्मक प्रभाव दिखाने लगेगा। आपके स्वास्थ्य के लिए यह समय कुछ कमज़ोर दिख रहा है, त्वचा सम्बन्धी कुछ व्याधि उत्पन्न हो सकती है। आपको अपने मान-सम्मान के प्रति बेहद सतर्कता बरतनी चाहिए तथा किसी भी अन्य के विवाद में इस समय आपको नहीं पड़ना चाहिए। कार्यस्थल पर अपने सहयोगियों से थोड़ी सतर्कता बरतें। पारिवारिक सुख के लिए भी यह समय मध्यम है।

मकर राशिफल 2016 जानने के लिए क्लिक करें: मकर राशिफल 2016

कुम्भ

द्वादश भावगत बुध का वक्री होना आपके लिए कई अर्थों में लाभकारी होगा। यात्रायें सुखद होंगी विशेषकर कार्य-व्यापार से सम्बंधित। यदि कोई पुराना विवाद चल रहा है तो वह अब समाप्त होगा। पंचमेश के द्वादश भाव में स्थित होने के कारण जहाँ अब तक शिक्षा-प्रतियोगिता में परेशानियाँ उत्पन्न हो रही थी, वहीं अब इसमें आपको सफलता मिलने लगेगी। आपको इस समय शारीरिक सुख की अनुभूति होगी, परन्तु संतान के स्वास्थ्य से सम्बंधित कुछ समस्या उत्पन्न हो सकती है। आर्थिक मामलों के हिसाब से समय मध्यम रहेगा और किसी परिस्थिति वश कर्ज़ लेने की स्थिति उत्पन्न हो सकती है।

कुम्भ राशिफल 2016 जानने के लिए क्लिक करें: कुम्भ राशिफल 2016

मीन

मीन राशि वालों के लिए बुध चतुर्थेश और सप्तमेश है। बुध वर्तमान में मीन राशि के एकादश में है, यहाँ बुध के वक्री होने से आय में अचानक कमी संभव है, कुछ ग़लत निर्णय के कारण आर्थिक हानि की भी संभावना बन रही है। शिक्षा-प्रतियोगिता में सफलता संदिग्ध है, अतः अधिक प्रयास करें। गर्भवती महिलाएँ इस समय अपना विशेष ख़्याल रखें। जीवनसाथी से भी कुछ मतभेद संभव है। विशेषकर घरेलु परिस्थितियों को लेकर, जिसके कारण आप पारिवारिक सुख में कमी महसूस कर सकते हैं।

मीन राशिफल 2016 जानने के लिए क्लिक करें: मीन राशिफल 2016

2017 गोचर

मंगल का मकर में गोचर मंगल वृश्चिक में वक्री मंगल का वृश्चिक में गोचर मंगल का तुला राशि में गोचर मंगल का कन्या में गोचर मंगल का सिंह राशि में गोचर मंगल अस्त मेष राशि में मंगल का मेष में गोचर मंगल का मीन में गोचर मंगल का मिथुन में गोचर मंगल का वृषभ में गोचर मंगल का वृषभ में गोचर मंगल का गोचर कुम्भ राशि में शनि वृश्चिक में अस्त शनि वक्री वृश्चिक में वृश्चिक राशि में शनि उदय सूर्य का तुला राशि में गोचर सूर्य का मीन में गोचर सूर्य का कुम्भ में गोचर सूर्य का मकर में गोचर सूर्य का धनु राशि में गोचर सूर्य का वृश्चिक राशि में गोचर सूर्य का कन्या राशि में गोचर सूर्य का सिंह राशि में गोचर सूर्य का कर्क में गोचर सूर्य का मिथुन में गोचर सूर्य का वृषभ में गोचर सूर्य का मेष में गोचर सूर्य का वृषभ में गोचर सूर्य का मिथुन में गोचर
धनु राशि में शुक्र का गोचर शुक्र का वृश्चिक में गोचर शुक्र का कन्या में गोचर शुक्र कर्क में मार्गी शुक्र का मीन में गोचर शुक्र का कुम्भ में गोचर शुक्र का मकर में गोचर शुक्र मेष में अस्त शुक्र का वृश्चिक में गोचर शुक्र का तुला में गोचर मंगल का कर्क में गोचर अस्त शुक्र का कर्क में गोचर शुक्र सिंह राशि में वक्री शुक्र का वृषभ में गोचर शुक्र का मेष में गोचर शुक्र का सिंह में गोचर शुक्र का मिथुन में गोचर शुक्र का कर्क में गोचर शुक्र का मिथुन में गोचर शुक्र का वृषभ में गोचर शुक्र का वृश्चिक में गोचर वृश्चिक राशि में शुक्र उदय गुरु कन्या राशि में वक्री गुरु का सिंह में गोचर गुरु सिंह राशि में अस्त गुरु कर्क राशि में मार्गी कर्क राशि में बृहस्पति वक्री गुरु कर्क राशि में मार्गी शनि धनु राशि में वक्री

AstroSage on MobileAll Mobile Apps

AstroSage TVSubscribe

Buy Gemstones

Best quality gemstones with assurance of AstroSage.com

Buy Yantras

Take advantage of Yantra with assurance of AstroSage.com

Buy Navagrah Yantras

Yantra to pacify planets and have a happy life .. get from AstroSage.com

Buy Rudraksh

Best quality Rudraksh with assurance of AstroSage.com

Reports

FREE Matrimony - Shaadi