Personalized
Horoscope
Home » 2016 » शनि गोचर 2016 Modified: August 03, 2016

शनि गोचर 2016

न्याय का स्वामी शनि 2016 में भी पिछले वर्ष की तरह वृश्चिक राशि में ही मौज़ूद रहेंगे। यदि नक्षत्रों की बात करें तो शनि ज्येष्ठा नक्षत्र में रहने वाले हैं। शनि की ऐसी स्थिति के कारण देश-दुनिया में आपसी मेल-मिलाप की कमी रह सकती है।

Jaane saal 2016 mein shani ka gochar kon si rashi ke liye kitna shubh hai.

न्यायप्रिय व दण्डाधिकारी ग्रह शनि साल 2016 में वृश्चिक राशि में ही बने रहेंगे। पिछले साल भी शनि का मौज़ूदगी वृश्चकि राशि में ही थी। इस वर्ष शनि बुध के नक्षत्र ज्येष्ठा में रहेंगे। काल पुरुष की कुण्डली में बुध तीसरे व छठे भाव का स्वामी है। अत: जातकों को अपने पड़ोसियों और बन्धु बान्धवों का पूरा आदर व सम्मान करना होगा, हालाँकि पूरी तरह से निर्भर होने से बचना होगा। आत्मनिर्भर रहना सदैव उचित रहेगा, इसलिए ख़ुद पर यक़ीन रखें। बेवजह लोन आदि के चक्कर में पड़ना भी उचित नहीं रहेगा। देश के भीतर भाई-चारे की कमी देखने को मिल सकती है। वाणी से सम्बंधित कार्य करने व दलाल लोगों को बड़ी ही सूझ-बूझ के साथ बातचीत करनी होगा। ऐसा करने से इन्हें बड़ी मात्रा में लाभ मिलेगा। आइए जानते हैं कि शनि की इस स्थिति का विभिन्न राशियों पर क्या प्रभाव पड़ेगा।

Click here to read in English

मेष राशि

साल 2016 में शनिदेव आपकी राशि से आठवें स्थान में रहेंगे। यानी मेष राशि पर ढइया का प्रभाव रहेगा। अत: शत्रुओं व स्वास्थ्य को लेकर सचेत रहने की आवश्यकता रहेगी। व्यवसाय व नौकरी में थोड़ा बहुत उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकता है, लेकिन मेहनती व निष्ठा पूर्वक काम करने वाले व्यक्तियों को पदोन्नति भी मिल सकती है। आर्थिक मामलों में सचेत रहने की ज़रूरत है। किसी के बहकावें में आकर निवेश न करें। वाणी में संयम बरतें और परिजनों के साथ सामंजस्य बिठाकर रहें। प्रेम-संबंधों व संतान की उपेक्षा न करें। ऐसा करके आप बेहतर परिणाम पा सकेंगे।

उपाय

  1. चींटियों को आटा डालें।
  2. गरीबों को जूते व काले वस्त्र दान करें।

वृषभ राशि

इस वर्ष शनि आपके सप्तम भाव में गोचर करेगा। ऐसे में यदि पहले से कोई स्वास्थ्य पीड़ा नहीं है तो आपको विशेष कष्ट नहीं मिलेगा, लेकिन यदि पूर्व से स्वास्थ्य कमज़ोर है, तो सजग रहें। योग और आयुर्वेद की सेवा लेना लाभप्रद होगा। स्वयं को ज़िद्दी होने से बचाएँ। यदि जीवनसाथी ज़िद्दी हो रहा है, तो उसे तर्कपूर्ण तरीक़े और प्यार से समझाने की कोशिश करें। किसी घरेलू सदस्य के स्वास्थ को लेकर कुछ चिंताएँ बीच-बीच में हो सकतीं हैं। कार्य-व्यवसाय के लिए यह साल अच्छा रहेगा। सहकर्मी व वरिष्ठों से संबंध सुधरेंगे। विदेश जाने व यात्राओं के लिए भी साल मददगार बनेगा।

उपाय

  1. काली गाय की सेवा करें।
  2. काले घोड़े की नाल की अंगूठी पहने।

मिथुन राशि

शनि का गोचर आपके छठे भाव में है जो की एक अच्छी स्थिति है। साथ ही शनि आपके राशि स्वामी बुध की राशि में रहेगा। अत: आपको अच्छे परिणामों की प्राप्ति होगी। विरोधी, प्रतिस्पर्धी व शत्रु या जो भी षडय़ंत्र करने वाले होंगे, उनके अरमानों पर पानी फिरेगा। आप सभी प्रकार की प्रतियोगिताओं में सफल रहेंगे। स्वास्थ्य अनुकूल रहेगा। अचानक धन प्राप्ति होने के योग भी मजबूत होंगे। नौकरी व कार्यक्षेत्र में भी आपको आगे बढऩे के अवसर मिलेंगे। विदेश यात्रा के योग बनेंगे। यदि विदेश से जुड़ा कोई काम करते हैं, तो बड़ा लाभ मिलने के योग हैं।

उपाय

  1. काले कुत्ते को भोजन कराएँ।
  2. 7 प्रकार के अनाज व दालों को मिश्रित करके पक्षियों को चुगाएँ।

कर्क राशि

इस वर्ष शनि आपके पंचम भाव में रहेगा। अत: आपको औसतन अच्छे परिणाम मिलेंगे। मित्रों और सहयोगियों के माध्यम से भी लाभ मिलेगा। आपके दिमाग में आई कोई बेहतरीन योजना या आइडिया अच्छा फ़ायदा पहुँचा सकती है। किसी तकनीकी मदद से भी फ़ायदा मिल सकता है। कार्यक्षेत्र में नए अवसर मिल सकते हैं, लेकिन साझेदारी के कामों में सावधानी से काम लें। प्रेम-संबंधों व शिक्षा में लापरवाही नुकसान दे सकती है। भाईयों से अनबन न रखें व आर्थिक मामलों में सावधानी से काम लें। अधिक ज़िद्द न करें। ऐसा करने से आपको बेहतर परिणाम मिल सकते हैं।

उपाय

  1. पीपल के पेड़ के नीचे ससरसों के तेल का दीपक लगाएँ।
  2. मंदिर में बादाम चढ़ाएँ।

सिंह राशि

इस वर्ष शनि आपके चतुर्थ भाव में हैं यानी आप पर ढइया का प्रभाव रहेगा। अत: परिणामों की प्राप्ति के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ सकती है। हालाँकि शनि आपके धनेश और लाभेश बुध के नक्षत्र में रहेगा, अत: मेहनत बेकार नहीं जाएगी और आपको सफलता मिल जाएगी। यदि आप बड़े दिनों से कोई प्रॉपर्टी या वाहन ख़रीदने के प्रयास में हैं तो उसमें भी आपको सफलता मिल जाएगी। हालाँकि आपको कार्यक्षेत्र में अधिक ध्यान देने की आवश्यकता रहेगी। नौकरी-पेशा वालों को बेहतर परिणाम मिलेंगे। घरेलू जीवन व स्वास्थ्य का ख़्याल रखेंगें तो बेहतर परिणाम मिलेंगे।

उपाय

  1. काली गाय को दूध व चावल खिलाएँ।
  2. हनुमान जी को हर शनिवार सिंदूर चढ़ाएँ।

कन्या राशि

इस वर्ष शनि आपके तीसरे भाव में गोचर करेंगे और आपके राशि स्वामी बुध के नक्षत्र में रहेगें। अत: सामान्यत: आपको अच्छे परिणाम मिलेंगे। आपका आत्मविश्वास आपको लगातार विजय दिलाएगा। आपकी आर्थिक स्थिति में तुलनात्मक रूप से सुधार होगा। नौकरी व व्यापार में स्थितियाँ आपके पक्ष में रहेंगी। कोई व्यापारिक फ़ायदा भी सम्भावित है। घर-परिवार का माहौल बेहतर होगा। दाम्पत्य जीवन सुख़द रहेगा, लेकिन प्रेम-सम्बंधों में कुछ कड़वाहट रह सकती है। बेवजह की यात्राओं से बचें और स्वास्थ्य का ख़्याल रखें तो सब अच्छा रहेगा।

उपाय

  1. मांसाहार व शराब से बचें।
  2. शनिवार के दिन बंदरों और काले कुत्तों को लड्डू खिलाएँ।

तुला राशि

शनि का गोचर आपके दूसरे भाव में यानी साढ़े साती का प्रभाव रहेगा। हालाँकि दूर की यात्राओं और विदेश के माध्यम से लाभ मिल सकता है, लेकिन अन्य मामलों में आपको सावधानी से काम लेना होगा। आपको आर्थिक मामलों में समझदारी दिखानी होगी। हालाँकि अचानक धन प्राप्ति सम्भव है, लेकिन आँख मूंदकर कहीं भी निवेश न करें। अड़चनों के बाद काम बनते रहेंगे। वाणी में मधुरता रखें व परिजनों को मिलाकर चलें। स्थान परिवर्तन या किसी नए काम की शुरुआत के लिए समय ठीक नहीं है।

उपाय

  1. कुष्ट रोगियों की सेवा करें।
  2. सवा किलो कोयला व एक लोहे की कील काले कपड़े में बांधकर अपने सिर पर से घुमाकर बहते हुए जल में प्रवाहित करें।

वृश्चिक राशि

शनि आपके प्रथम भाव में गोचर करेगा यानी साढ़े साती का प्रभाव रहेगा। शनि आपके लाभेश और अष्टमेश बुध के नक्षत्र में है, अत: मिले-जुले परिणामों की आशा रखनी चाहिए। प्रत्येक कार्य को करने में अपेक्षाकृत अधिक समय लग सकता है। हालाँकि दबाव और संघर्ष के बाद मेहनत रंग लाएगी। वरिष्ठों और उच्चाधिकारियों को ख़ुश रखने में ही भलाई है, अत: इनसे न उलझें। विरोधियों से सावधान रहें। निवेश के मामले में समझदारी से काम लें। फ़िजूलख़र्ची पर नियंत्रण रखें। जीवन साथी की भावनाओं की कद्र करें तो बेहतर परिणाम मिल सकते हैं।

उपाय

  1. बंदरों को गुड़ खिलाएँ।
  2. शराब और मांसाहार से बचें।

धनु राशि

इस वर्ष शनि आपके द्वादश भाव में रहेगा यानी साढ़े साती का प्रभाव आप पर रहेगा। हालाँकि यह आपके दशमेश और सप्तमेश बुध के नक्षत्र में है, अत: दैनिक कार्यों में कुछ व्यवधान दे सकता है, लेकिन व्यवधान के बाद काम बनेंगे और आपको संतोषजनक सफलता मिल जाएगी। इस वर्ष आपको समय समय पर अपने चिकित्सक से परामर्श लेते रहना होगा। विशेषकर यदि पहले से कोई शारीरिक कष्ट हो तो अपना ख़ास ख़्याल रखें। ख़र्चों पर अंकुश लगाएँ। विरोधियों से सावधान रहें। वाणी में मिठास का वास कराएँ।

उपाय

  1. शनिवार के दिन हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाएँ व हनुमान चालीसा का पाठ करें।
  2. शनिवार के दिन जटा वाले ग्यारह नारियल बहते हुए जल में प्रवाहित करें।

मकर राशि

शनि आपके लाभ भाव में गोचर करेगा। यह आपके भाग्येश और षष्ठेश बुध के नक्षत्र में है। अत: भाग्य तो साथ देगा, लेकिन कुछ कठिनाइयाँ भी रह सकती हैं। हालाँकि स्वास्थ्य सामान्यत: सही रहेगा, लेकिन जानबूझ कर स्वास्थ्य को नज़रअंदाज़ न करें। हालाँकि मित्रों व सहयोगियों का सहयोग मिलेगा, लेकिन व्यापार में भी अति-विश्वास हानि का कारण बन सकता है। हालाँकि साल भर पैसों का उतार-चढ़ाव बना रह सकता है, लेकिन घर-परिवार का वातावरण आपके अनुकूल रहेगा। इस सब कारणों से आप बेहतरी का अनुभव कर सकते हैं।

उपाय

  1. शराब न पियें और अपना नैतिक चरित्र ठीक रखें।
  2. सरसों के तेल का दान करें।

कुंभ राशि

इस साल शनि आपके दशम भाव में गोचर करेंगे। शनि पंचमेश व अष्टमेश बुध के नक्षत्र में है, अत: बुद्धि और युक्ति से काम लेने पर बड़ी सफलता हाथ लग सकती है, लेकिन जल्दबाज़ी के चक्कर में बनी बनाई चीजें भी बिगड़ सकती है। फ़िर भी शनि अधिकांश मामलों में आपको अनुकूलता देता रहेगा। इस साल आपके आय के स्त्रोत बढ़ सकते हैं। कार्य व्यापार का विस्तार होगा। आर्थिक रूप से भी यह साल आपके लिए अच्छा ही रहेगा। आपके इष्ट मित्रों के सहयोग से अधिकांश कामों में सफलता मिलेगी। यदि नौकरी पेशा है तो प्रमोशन होने के भी अच्छे योग हैं।

उपाय

  1. यथा सम्भव अंधों की सेवा करें।
  2. शनिवार के दिन काले कुत्तों को भोजन कराएँ।

मीन राशि

इस वर्ष शनि आपके नवम भाव में गोचर करेगा। यह आपके चतुर्थेश और सप्तमेश बुध के नक्षत्र में है, अत: घरेलू और दाम्पत्य जीवन का ख़्याल रखेंगे, तो काफ़ी हद तक जीवन सुखमय रहेगा। हाथ में लिए गए कार्यों को आप पूरा करके ही दम लेंगे। काम धंधे को विस्तार देने की योजना कारगर होगी। किसी दूर रहने वाले व्यक्ति के माध्यम से भी लाभ मिल सकता है, लेकिन पिता व भाई के स्वास्थ्य का ख़्याल रखें व इनसे सम्बंधों को न बिगाड़ें। कुछ अड़चनों के बाद ही सही, लाभ मिलता रहेगा। स्वास्थ्य व परिवार व मित्रों के मामले में वर्ष अनुकूल है।

उपाय

  1. जब भी मौका मिले बहते पानी में चावल बहाएँ।
  2. घी लगी रोटी काली गाय को खिलाएँ।

राशिफल 2016 पढ़ें अभी!

पं. हनुमान मिश्रा

2016 Articles

Buy Your Big Horoscope

100+ pages @ Rs. 399/-

Big horoscope

AstroSage on MobileAll Mobile Apps

AstroSage TVSubscribe

Buy Gemstones

Best quality gemstones with assurance of AstroSage.com

Buy Yantras

Take advantage of Yantra with assurance of AstroSage.com

Buy Navagrah Yantras

Yantra to pacify planets and have a happy life .. get from AstroSage.com

Buy Rudraksh

Best quality Rudraksh with assurance of AstroSage.com

Reports

FREE Matrimony - Shaadi